Friday, April 15, 2016

नई सोच के साथ बढ़ाने होेंगे कदम


बाबा साहब की 125वीं जयंती पर दिल्ली में पूरा संसद मार्ग खुशी से झूम रहा है, नाच रहा है। संसद भवन प्रांगण में उनको श्रद्धासुमन अर्पित करने वाले लंबी लाइनों में लगे रहे। उनका उत्साह देखने लायक था। सच है बाबा साहब ने शताब्दियों के शोषण को खत्म करने के लिए जो मार्ग अपनाया उसमें कोई दो राय .....

Media Mirchi

Loading...